Rajniti Kya Hai In Hindi? What Is Politics – जाने राजनीती के बारे में

0
86
Rajniti-Kya-Hai-In-Hindi
जानकारी पसंद आये, तो पोस्ट शेयर जरूर करे
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इस पोस्ट में आपको Rajniti Kya Hai In Hindi के बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिलेगी की राजनीती क्या है, राजनीती की हिस्ट्री क्या है, अरस्तु और प्लेटो के अनुसार राजनीती क्या है और आखिर राजनीती क्यों जरुरी है.

अगर आप यह जानना चाहते हो की Rajniti Kya Hai In Hindi तो इस पोस्ट को शुरु से लेकर अंत तक पढ़े ताकि आपको राजनीती के बारे में अच्छी जानकारी मिले तो चलिए बिना देर किये शुरू करते है.


History Of Politics (राजनीति)

राजनीति जिस को इंग्लिश में हम Politics कहते हैं की उत्पत्ति यूनानी शब्द Polis से हुआ है प्राचीन यूनान में जो छोटे-छोटे शहर राज्य थे उनको polis कहा जाता था प्राचीन यूनान में शासन polis के थ्रू ही चलाया जाता था.

समाज में, जो लोगों का प्रत्येक व्यक्ति के साथ क्या संबंध होगा, व्यक्तिओ का राज्य के साथ क्या संबंध होंगे, समाज में अगर कोई अव्यवस्था लाता है तो राज्य उनको क्या दंड दे सकता है. इन सब का निर्धारण यह polis करते थे, इस तरीके से राज्य किस तरीके से चलेगा राज्य की नीतियां क्या होंगी वह सब Polis निर्धारित करता था, Polis से ही बना है Politics.

इस तरीके से हम Politics राजनीति को राज्य की नीतियों और गतिविधियों के अध्ययन के रूप में परिभाषित कर सकते हैं. जब हम राज्य की नीतियों का अध्ययन कर रहे होते हैं तो हम कहते हैं कि हम राजनीति का अध्ययन कर रहे हैं.

Polis का मतलब होता है समाज, समुदाय या जनता जहां भी ग्रुप को पीपल्स एक साथ रहते हैं उसे हम Polis कह सकते हैं लेकिन समय के साथ Politics यानी राजनीति का मतलब बदलता रहा है.

राजनीती क्या है इन हिन्दी ?

अरस्तु और प्लेटो के अनुसार राजनीति का अर्थ है “हर वह चीज राजनीति है जिसका संबंद पुरे समुदाय को प्रभावित करने वाले सामान्य प्रश्नों से है.

प्लेटो और अरस्तू के अनुसार राजनीती का अर्थ और विचार

अरस्तू ने कहना है “मनुष्य एक राजनीतिक प्राणी है’”

अरस्तु – राज्य जीवन के लिए अस्तित्व में आता है और अच्छे जीवन के निरंतर बना रहता है

राजनीति का प्रमुख उद्देश्य ‘उत्तम जीवन कि सिद्धि करना है

अरस्तू के विचार इन हिन्दी

शिक्षा की जड़े जरुर कडवी होती है लेकिन इसका फल बहुत ही मीठा होता है.

अरस्तू का मानना है कि राज्य अपने नागरिकों में उत्तम गुण विकसित करता है। वह नागरिकों को सद्गुणी बनाता है। वह नागरिकों को चरित्रवान बनाता है।

वास्तव में राजनीति से कोई भ्रष्टाचार या कोई समस्या नहीं है अरस्तु ने तो राजनीति को समस्या नहीं बल्कि समाधान मारा है उनका कहना था कि दुनिया की सारी विधाएं समस्या पैदा करती हैं जबकि राजनीति लोगों के हर समस्या का समाधान करती है.

रस्तू के अनुसार व्यक्ति राज्य में ही रहकर अपने को पशु-स्तर से ऊपर उठाकर सही मनुष्यत्व को प्राप्त कर सकता है। राज्य ही व्यक्ति की मूलभूत आवश्यकताओं के साथ-साथ व्यक्ति की नैतिक और बौद्धिक आवश्यकताओं की भी पूर्ति करता है।

प्लेटो के अनुसार राजनीती का अर्थ और विचार

प्लेटो ने आदर्श राज्य का निर्माण ही एक निश्चित उद्देश्य से किया, और वह उद्देश्य एक ऐसी राजनीतिक व्यवस्था की स्थापना करना है, जिसमें सभी वैयक्तिक, सामाजिक व राजनीतिक संस्थाएं न्याय से अनुप्राणित हो ।

रिपब्लिक’ में उसकी न्याय की खोज के दो रूप हो जाते हैं । पहला रूप उसका व्यक्तिगत न्याय का है और दूसरा रूप सामाजिक न्याय का ।

ग्रीक राजनीतिक चिंतन के इतिहास में प्लेटो एक उच्चकोटि के आदर्शवादी राजनीतिक विचारक तथा नैतिकता के एक महान पुजारी थे ।

समाज के लिए राजनीति क्यों जरुरी है.

क्या बिना राजनीति के भी हमारे समाज जिंदा रह सकता है राजनीति के बिना क्या हम अपने सारे काम दैनिक जो समस्याएं हैं उसको सुलझा सकते हैं. देखिए किसी भी प्रकार की राजनीतिक संगठन या सामूहिक निर्णय के बगैर कोई भी समाज जिंदा नहीं रह सकता.

समाज का हर व्यक्ति एक दूसरे से अलग है मैं अलग ढंग से सोच पाए समाज के लिए क्या सही है क्या गलत है, इस पर हर किसी की अपनी अलग राय है, बावजूद इसके हम सब इकट्ठे रहते हैं. हम सब अलग अलग तरीके से लोग हैं अलग अलग ढंग से सोचने वाले लोग हैं और एक साथ रहते हैं तो उनके बीच में टकराव होना स्वाभाविक है.

लोगों में मतभेद होंगे तो समाज में संघर्ष बनेगा जिस विभागीय व्यक्ति को लगेगा कि समाज उसकी उपेक्षा कर रहा है, वहां उसकी बात नहीं सुनी जा रही है तो वह समाज से खुद को अलग कर लेगा ऐसे में समाज का क्या होगा उसका अस्तित्व खतरे में आ जाएगा और हमें अपने जीवन में बहुत से सामूहिक निर्णय लेने पड़ते हैं,

इन्हे भी जरूर पढे:

आपको पार्क की जरूरत है हर व्यक्ति खुद का अलग पार्क तो नहीं बना सकता हर कोई अपना हॉस्पिटल नहीं बना सकता सीमा सुरक्षा बैंकिंग पुलिस हर समस्या का समाधान व्यक्ति खुद नहीं कर सकत.

इसके लिए हमें संगठन की जरूरत पड़ती है जो हम सब की तरफ से पैसे ले ले ऐसे में पूरे समाज में राज्य यानी सरकार की जरूरत महसूस की जो हम सब की तरफ से हमारी समस्याओं का समाधान करें.

जो हम सबके लिए कुछ फैसले लें और हमने क्या किया हमने अपनी शक्ति उन्हें दे दी उनको ऑथराइज करनी है कि भैया यह लोग हमें आपसे हमारे समस्याओं का समाधान करो आपको अपनी यह पावर देते हैं.

Conclusion

हम उम्मीद करते है की आप इस पोस्ट Rajniti Kya Hai In Hindi को पढ़ कर जान ही गए होगे की राजनीती क्या है. सब लोग अपने अनुसार राजनीती का मतलब अगल-अगल होता है.

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो कृपिया इसे शेयर जरुर करना और हमे कमेंट में बातये आपको यह article कैसा लगा


जानकारी पसंद आये, तो पोस्ट शेयर जरूर करे
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here